Motivational Story in Hindi- “ पिता का प्यार ”

Are you finding the Motivational Story in Hindi? Now you are in the perfect place. Here available a lot of Interesting Stories based on Moral Education. We are sharing everyday New Inspirational Story with you. Today’s our Best Short Moral Stories “ पिता का प्यार ”. I hope you will like this story, share it, and Subscribe to our Website.

Motivational Story in Hindi

मित्रों! यह एक ऐसा Website है, जहां हम रोज Motivational Story in Hindi में Share करते हैंजो व्यक्ति को एक नैतिक सीख देती है और जीने की कला सिखाती है|

दोस्तों इसमें प्रेषित सभी Moral Stories पाश्चात्य काल के किसी न किसी दैनिक जीवन में घटित घटना से संबंधित हैया फिर लोगों द्वारा कथित तौर पर कही गई है| जो आज निश्चित तौर पर हमारे दैनिक जीवन में घटित होती है!

So Friends! Today’s our

INTERESTING MORAL STORY

“ पिता का प्यार ”

एक बार की बात हैं, एक बूढ़ा पिता और उसका जवान बेटा टहलने के लिए एक पार्क में गए।

बूढ़े पिता ने अपने बेटे से कहा !

बेटा मैं थक गया हूँ। थोड़ी देर बैठना चाहता हूँ, फिर पिता और बेटा दोनों पार्क के एक बेंच पर बैठ गए।

तभी पिता की नजर सामने की एक पेड़ पर गई। वहाँ उन्होंने देखा कि एक पक्षी पेड़ की टहनी पर बैठा है।

पिता थोड़ी देर तक उस पक्षी को देखते रहे। उसके बाद पिता ने अपने बेटे को पेड़ की टहनी पर बैठे उस पक्षी की ओर दिखाकर पूछा, बेटा जो पेड़ की टहनी पर बैठा है वह क्या है?

बेटे ने अपने पिता के प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा!

पिता जी वह तोता है।

कुछ मिनटों बाद पिता ने अपने बेटे से फिर से वही प्रश्न पूछा,

बेटा वह क्या है?

इसके बाद बेटे ने ऊँचे आवाज से बोला पिता जी अभी थोड़ी देर पहले ही तो बताई थी की वह तोता है।

थोड़े ही देर बाद पिता ने एक बार फिर से उसी प्रश्न को और पूछा कि बेटा जो ऊपर पेड़ की टहनी पर बैठा है वह क्या है?

अब बेटे को बहुत गुस्सा आ गया।

वह चिल्लाते हुए अपने पिता से कहने लगा, पापा क्या आपको कुछ सुनाई नहीं दे रहा या आपको कुछ भी समझ नहीं आ रहा हैं?

मैं आपको कितनी बार बता चूका कि वह तोता है तोता, फिर भी आप थोड़े-थोड़े देर बाद बार-बार केवल यही प्रश्न ही पूछे जा रहे हो। आखिर आपको यह जानकर करना क्या है?

Must Read:- Motivational Story in Hindi

बेटे की बात सुनकर बूढ़े पिता ने बड़े ही नम्रतापूर्वक और धीमी आवाज में अपने बेटे से कहा!

बेटा मालूम है जब तुम करीब चार-पाँच साल के थे तो तुमने यह सवाल मुझसे पचासों बार पूछा था और यह सवाल पूछते वक्त तुम मुझे इतने प्यारे लग रहे थे कि मैं तुम्हारे हर सवाल पर तुम्हारे गाल पर एक किश देता और तुम्हे जवाब देते हुए कहता कि बेटा वह तोता है।

लेकिन तुम तो मेरे केवल 3 बार पूछने पर ही गुस्सा हो गए।

दोस्तों यह तो सिर्फ एक कहानी है लेकिन वास्तव में कई लोग अपने माता-पिता की बूढ़े हो जाने पर उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं करते। और उनकी छोटी-छोटी गलतियों पर उन्हें चिल्लाते हैं और गुस्सा होते हैं।

Moral:

जब भी हमारे माता-पिता हम पर निर्भर हो तब हमें उनके प्रति हमारी जिम्मेदारी अच्छे से निभानी चाहिए ।

माता-पिता को हमेशा अपने बच्चो के प्यार की आश होती हैं इसलिए उन्हें नाराज करने की बजाई उन्हें हमेशा खुश करनी चाहिए क्योंकि माता-पिता की देखभाल ही हमारी असली जिम्मेदारी है और हमें हमारी जिम्मेदारी से कभी नहीं भागना चाहिए।

धन्यवाद!

मित्रो आज की हमारी स्टोरी “ पिता का प्यार ” कैसे लगी और आपने क्या सिखा हमें comment में जरूर बताये ! यदि आपके पास भी ऐसी ही Moral Stories हैं तो आप हमें Gmail में जरुर भेजे उसे आपके फोटो और नाम से साथ हमारे Website के द्वारा लोगो तक पहुचाएंगे|

Gmail Id:- shareknowledge98@gmail.com

और दोस्तों इस तरह के शॉर्ट रोचक स्टोरी पढ़ने के लिए हमारे Website:- www.thoughtsguruji.comके साथ जुड़े रहिए |इसे अपने अपनों को भी पढ़ाइए,बताइए और सुनाइए |

Leave a Reply

Your email address will not be published.