New Moral Stories in Hindi- “बड़ा सोचो बड़ा बनो”

Hello Everyone! Today’s New Story is “ बड़ा सोचो बड़ा बनो ” Are you looking for The New Moral Stories in Hindi ?. So, guys, this is available here. Here we Published Every day A New Inspirational Interesting Moral Stories in Hindi.

New Moral Stories in Hindi

मित्रों! यह एक ऐसा Website है जहां हम रोज एक ऐसे ही New Moral Stories Hindi में Share करते हैंजो व्यक्ति को एक नैतिक सीख देती है और जीने की कला सिखाती है|

दोस्तों इसमें प्रेषित सभी Moral Stories पाश्चात्य काल के किसी न किसी दैनिक जीवन में घटित घटना से संबंधित हैया फिर लोगों द्वारा कथित तौर पर कही गई है| जो आज निश्चित तौर पर हमारे दैनिक जीवन में घटित होती है!

So Friends! Today’s our

INTERESTING MORAL STORY

“बड़ा सोचो बड़ा बनो”

एक बार एक गरीब युवक नौकरी की तलाश में किसी दुसरे शहर जाने के लिए वह रेलगाड़ी में सफर कर रहा था।

उस युवक का परिवार बहुत ही गरीब था।

उसके घर में कभी-कभी ही सब्जी बनती थी, इसलिए उसने रास्ते में खाने के लिए अपने पास सिर्फ रोटियाँ ही रखी थी।

आधा रास्ता गुजर जाने के बाद उसे भूख लगने लगी, और वह अपने टिफिन से रोटियों को निकाल कर खाने लगा। उसके खाने का तरीका भी कुछ अजीब था।

वह पहले रोटी का टुकड़ा लेता और अंदर कुछ ऐसे खाता कि मानो वो रोटी के साथ और भी कुछ खा रहा है जबकि उसके पास केवल रोटियाँ ही थी।

उसके रोटी खाने के इस तरीके को देखकर आसपास में बैठे हुए लोग भी हैरान हो गए। वह युवक हर बार रोटी का एक टुकड़ा लेता और झूठमूठ का टिफिन में डालता और खाता।

सभी लोग सोचने लगे कि आखिर वह युवक ऐसा झूठमूठ का रोटी के टुकड़े को टिफिन मे डालकर क्यों खा रहा है।

Must Read:- New Moral Stories in Hindi

आखिरकार एक व्यक्ति से रहा नहीं गया तो उसने उस युवक से पूछा कि- भैया आप ऐसा क्यों कर रहे हो ?

तुम्हारे पास सब्जी तो है ही नहीं फिर भी आप रोटी के टुकड़े को हर बार टिफिन में डालकर क्यों खा रहे हो। मानो टिफिन में सब्जी हो।

तब उस युवक ने उत्तर दिया- भैया इस खाली टिफिन मे सब्जी नहीं है लेकिन मैं अपने मन में ये सोचकर खा रहा हूँ की इसमे बहुत सारा आचार है मैं आचार के साथ रोटी को खा रहा हूँ।

फिर उस व्यक्ति ने पूछा- इस खाली टिफिन में आचार मानकर खाने से क्या आपको आचार का स्वाद मिल पा रहा है ?

युवक ने उत्तर दिया- हाँ बिल्कुल आ रहा है। मैं रोटी के साथ आचार खा रहा हूँ और मुझे बहुत अच्छा भी लग रहा है।
उस युवक की बात को दूसरे यात्रियों ने भी सुना और फिर उनमें से एक यात्री बोला- जब सोचना ही है तुमको, तो आचार की जगह मटर पनीर क्यों नहीं सोचते हो ? इसका भी स्वाद तुम्हें मिल जाता।

तुम्हारे कहने के अनुसार तुमने यदि आचार सोचा तो आचार का स्वाद आया यदि आप और अधिक अच्छी चीजों के बारे में सोचते तो उनका भी स्वाद तुम्हें मिल जाता, यदि तुम्हें सोचना ही था तो छोटा क्यों सोचे तुम्हे तो बड़ा सोचना चाहिए था।

Moral:-

  • अपनी सोच को बढ़ा रखिये क्यूंकि सोच बड़ी होगी तो सपने भी बड़े होंगे और आपके हौंसले भी बड़े होंगे।
  • बड़ा सोचोगें तो बड़ा बनोगें , छोटा सोचोगें तो छोटे ही रह जाओगें।

धन्यवाद!

मित्रो ! आज की हमारी स्टोरी “ बड़ा सोचो बड़ा बनो ” कैसे लगी और आपने क्या सिखा हमें comment में जरूर बताये ! यदि आपके पास भी ऐसी ही Moral Stories हैं तो आप हमें Gmail में जरुर भेजे उसे आपके फोटो और नाम से साथ हमारे Website के द्वारा लोगो तक पहुचाएंगे|

Gmail Id:- shareknowledge98@gmail.com

और दोस्तों इस तरह के शॉर्ट रोचक स्टोरी पढ़ने के लिए हमारे Website:- www.thoughtsguruji.comके साथ जुड़े रहिए |इसे अपने अपनों को भी पढ़ाइए,बताइए और सुनाइए |

Leave a Reply

Your email address will not be published.