Moral Stories| Interesting Moral Stories for Kids

Hello Dosto! Today’s we are sharing The Very Interesting Moral Stories For Kids in Hindi. Now Today’s our Moral Story is “लक्ष्य की शक्ति“. Guys, it’s the Best Story to decide your aim. Through the story, we have tried to tell how important it is for any person to set goals. And what is the life of a person without a goal?

Friends! Here we published every day a New Moral Stories for Kids in Hindi. We hope you will like this story, share and Subscribe to our Website.

Moral Stories| Interesting Moral Stories for kids-"लक्ष्य की शक्ति"


मित्रों! यह एक ऐसा Website है, जहां हम रोज Interesting
Moral Stories बच्चों के लिए Share करते हैं! जो व्यक्ति को एक नैतिक सीख देती है और जीने की कला सिखाती है|

दोस्तों इसमें प्रेषित सभी Moral Stories पाश्चात्य काल के किसी न किसी दैनिक जीवन में घटित घटना से संबंधित है! या फिर लोगों द्वारा कथित तौर पर कही गई है| जो आज निश्चित तौर पर हमारे दैनिक जीवन में घटित होती है!

So Friends! Today’s our

INTERESTING MORAL STORY

लक्ष्य की शक्ति 

एक बार महर्षि रमण ने अपने प्रिय शिष्य को धनुर्विद्या देखने के लिए बुलाया| शिष्य यह सब पहले ही दसियों बार देख चुका था पर वह गुरु की आज्ञा का अवहेलना नहीं करना चाहता था| वे समीप ही जंगल में एक विशाल वृक्ष के पास गए|महर्षि रमण के पास एक फूल था| 

Moral Stories- A Saint with a student Learning the Dhanurvidya.

जिसे उन्होंने पेड़ की एक शाखा पर रख दिया|फिर उन्होंने अपना नायाब धनुष-तीर और एक कढ़ाई किया हुआ सुंदर रुमाल निकाला|

वे फूल से दूर आकर खड़े हो गए और शिष्य से कहा कि रुमाल से उसकी आंखें ढक कर भली-भांति बंद कर दे|महर्षि रमण ने अपने शिष्य से पूछा- ” तुमने मुझे धनुर्विद्या की महान कला अभ्यास करते कितने बार देखा है? “

Moral Stories-Aim Based Images A man with his goal

Interesting Moral Stories for Kids

 शिष्य ने कहा- ” मैं तो यह सब रोज ही देखता हूं, आप तो 300 कदम दूर से ही फूल पर निशाना लगा सकते हैं|”

आंखें ढके हुए महर्षि रमण ने पैरों को धरती पर जमाया, उन्होंने पूरी शक्ति से धनुष की प्रत्यंचा खींचा और तीर छोड़ दिया| हवा को चीरता हुआ तीर फूल से बहुत दूर, यहां तक कि पेड़ से भी नहीं टकराया, और लक्ष्य से बहुत दूर चला गया|

लक्ष्य की शक्ति-A man with arrow focus on aim

 महर्षि ने आंखें खोलते हुए पूछा- ” तीर लक्ष्य पर लग गया? ”

शिष्य ने कहा- ” नही! वह तो लक्ष्य के पास भी नही गया|मुझे लगा कि आप अपने संकल्प शक्ति से निशाना लगा देंगे|”

महर्षि ने कहा- ” मैंने तुम्हे संकल्प शक्ति का सबसे महत्वपूर्ण पाठ ही तो पढाया है|”

” तुम जिस भी वस्तु की इच्छा करो, अपना पूरा ध्यान उसी पर लगाओ, कोई भी उस लक्ष्य को नहीं वेध सकता जो दिखाई ना देता हो, वास्तविकता से आंख मत चुराओं|”

Moral:-

  • जीवन में लक्ष्य का होना बहुत ही महत्वपूर्ण बात हैं|बिना लक्ष्य के तीर कभी निशाने पर नही लग सकता|
  • अगर आपका लक्ष्य किसी वस्तु को पाना हैं तो आप उसे अपने लक्ष्य से पा लेंगे और अगर नही तो बहाना बनाओगे|
  • बिना लक्ष्य के हमारे सामने भी आँखों में सिर्फ काली पट्टी बंधी रहती हैं|पूरी दुनियां में घनघोर अँधेरा लगता हैं|
  • वहीं लक्ष्य होने पर हम सीधा तीर की तरह निशाने पे जाकर लगते हैं|हर जीवन का एक उद्धेश्य हैं|
  • अपने जीवन के उद्धेश्य को तय कीजिये, रणनीति बनाइये, और तब तक तक मत रुकिए जब मंजिल हासिल ना हो|

धन्यवाद!

मित्रो आज की हमारी स्टोरी “लक्ष्य की शक्ति” कैसे लगी और आपने क्या सिखा हमें comment में जरूर बताये! यदि आपके पास भी ऐसी ही Interesting Moral Stories हैं तो आप हमें Gmail में जरुर भेजे उसे आपके फोटो और नाम से साथ हमारे Website के द्वारा लोगो तक पहुचाएंगे|

Gmail Id:- [email protected]

और दोस्तों इस तरह के शॉर्ट रोचक स्टोरी पढ़ने के लिए हमारे Website:- www.thoughtsguruji.comके साथ जुड़े रहिए |इसे अपने अपनों को भी पढ़ाइए,बताइए और सुनाइए |

Leave a Reply

Your email address will not be published.