Moral Stories in Hindi for Class 7- “धर्मक्षेत्र”

If you are looking for Moral Stories in Hindi for Class 7. so the collection is available here. Here the big collection of Moral Stories In Hindi. Below we are sharing very Interesting Short Moral Stories are written in Hindi. Now today’s our Story is “धर्मक्षेत्र” We hope you will like this Hindi Story Collection.

Moral Stories in Hindi for Class 7- धर्मक्षेत्र


मित्रों! यह एक ऐसा Website है जहां हम रोज एक ऐसे ही Short Stories with Moral Values में Share करते हैं
! जो व्यक्ति को एक नैतिक सीख देती है और जीने की कला सिखाती है|

दोस्तों इसमें प्रेषित सभी Moral Stories पाश्चात्य काल के किसी न किसी दैनिक जीवन में घटित घटना से संबंधित है! या फिर लोगों द्वारा कथित तौर पर कही गई है| जो आज निश्चित तौर पर हमारे दैनिक जीवन में घटित होती है!

So Friends! Today’s our

INTERESTING MORAL STORY

“धर्मक्षेत्र”

महाभारत का युद्ध चल रहा था| आज दुर्योधन और अर्जुन आमने सामने थे बाणों का संघान लगातार हो रहा था, अर्जुन एक बार में जितने बानो का संघार करता, दुर्योधन उतने ही समय में, अर्जुन के बालों को काट कर उतने ही और बाणों का संघार कर चुका होता| 

krishna & arjun at the mahabharat

दुर्योधन की तत्परता और फुर्ती के समक्ष अर्जुन शिथिल पढ़ने लगा| एक क्षण वह उपस्थित हुआ जब अर्जुन के आंखों में आंसू आ गए| कृष्ण को अर्जुन की दुर्बलता का एहसास होने लगा परंतु कृष्ण ने अर्जुन को नहीं देखा| श्री कृष्णा स्थिर भाव से रथ चलाते रहें|

Moral Stories in Hindi for Class 7

अब दुर्योधन बाणों के तीव्र प्रहार से अर्जुन के रथ के अश्वों को लहूलुहान करने लगा| ऐसा करना उस समय युद्ध के नियमों के विपरीत था|कृष्णा थोड़ी देर तक देखते रहे फिर अपने रथ से कूद कर दुर्योधन के रथ के ऊपर चढ़ दुर्योधन के ठीक सामने जाकर खड़े हो गए|

कृष्णा को सामने देख दुर्योधन आश्चर्य में पड़ गया| दुर्योधन चकित रह गया| श्री कृष्ण बोले: दुर्योधन तुम अश्वों  को घायल कर अनीति कर रहे हो यह  कार्य तुम्हारे जैसे वीर को शोभा नहीं देता| कृष्ण की ओजस्वी वाणी सुनकर दुर्योधन स्थिर रह गया| दुर्योधन की स्थिरता उसकी मानसिक शिथिलता का एहसास करते ही, अर्जुन पुनः विवेक पूर्वक युद्ध करने लगा|

Moral Stories in Hindi for Class 7- Mahabharat

Moral:

धन्यवाद!

मित्रो आज की हमारी स्टोरी “धर्मक्षेत्र” कैसे लगी और आपने क्या सिखा हमें comment में जरूर बताये ! यदि आपके पास भी ऐसी ही Moral Stories Hindi में हैं तो आप हमें Gmail में जरुर भेजे, उसे आपके फोटो और नाम से साथ हमारे Website के द्वारा लोगो तक पहुचाएंगे|

Gmail Id:- [email protected]

और दोस्तों इस तरह के शॉर्ट रोचक स्टोरी पढ़ने के लिए हमारे Website:- www.thoughtsguruji.comके साथ जुड़े रहिए |इसे अपने अपनों को भी पढ़ाइए,बताइए और सुनाइए |

Leave a Reply

Your email address will not be published.