Hindi Moral Stories- “ बुरी आदत छोड़ने की सीख ”

Are you looking for the Hindi Moral Stories? so you are at the right site. Here Available a lot of Hindi Moral Stories. We Publish every day New Moral Stories related to Moral Education. Today’s out Hindi Moral Stories is “ बुरी आदत छोड़ने की सीख .

दोस्तों! नीचे हमने बहुत ही दिलचस्प कहानी आप से साझा किया हैं।हर व्यक्ति में कोई ना कोई बुरी आदत जरुर होती हैं जिसके कारण उसका पूरा जीवन बर्बाद हो जाता हैं साथ ही आसपास के लोगो को भी इससे नुकसान पहुंचता हैं। इसलिए हमें अपनी बुरी आदतों को समय के साथ बदल लेनी चाहिए। वरना आगे चलकर बहुत ही पछताना पड़ता है। ये कहानी हैं ऐसे ही एक व्यक्ति कि जिसको किसी चीज कि बुरी आदत लग गयी थी। नीचे हमने आज की नैतिक कहानी आपसे साझा की हैं, उम्मीद हैं आपको यह कहानी पसंद आएगी।

Hindi Moral Stories- “ बुरी आदत छोड़ने की सीख ”

मित्रों! यह एक ऐसा Website है, जहां हम रोज Short Moral Stories Hindi में बच्चों के लिए Share करते हैंजो व्यक्ति को एक नैतिक सीख देती है और जीने की कला सिखाती है|

दोस्तों इसमें प्रेषित सभी Moral Stories पाश्चात्य काल के किसी न किसी दैनिक जीवन में घटित घटना से संबंधित हैया फिर लोगों द्वारा कथित तौर पर कही गई है| जो आज निश्चित तौर पर हमारे दैनिक जीवन में घटित होती है!

INTERESTING MORAL STORY

“ बुरी आदत छोड़ने की सीख ”

एक बार कि बात हैं एक गाँव में रामानंद नाम का व्यक्ति रहता था उसका एक बेटा था जिसका नाम श्याम था जिसको किसी चीज की बुरी आदत पड़ गयी थी।

जब भी कोई व्यक्ति उसे समझाने कि कोशिश करते थे तो वो उस व्यक्ति पर टूट पड़ता था श्याम के इस हरकतों से पूरा गाँव परेशान था। रामानंद भी अपने बेटे को समझाने की कोशिश करता मगर उसके भी बातो को टाल देता था।

एक दिन रामानंद को एक उपाय सुझा अपने बेटे की बुरी आदत को छुड़वाने का।

Hindi Moral Stories

Must Read: Hindi Moral Stories

वह अपने बेटे को एक सुन्दर बगीचे में घुमाने के लिए ले गया, दोनों घूम ही रहे थे तभी रामानंद ने अपने बेटे को एक छोटे से पौधा की तरफ दिखा कर बोला बेटा क्या तुम इस पौधा को उखाड़ सकते हो ?

बेटे ने तुरन्त उत्तर दिया हाँ ये कौन सा बड़ा काम हैं करके बोले और तुरन्त ही उस पौधे को उखाड़ दिया ,

थोड़े दूर जाने पर रामानंद फिर से अपने बेटे को थोड़ा बड़ा पौधा को उखाड़ने बोले बेटे ने उसे भी उखाड़ दिये इस पौधे को उखाड़ने में उन्हें थोड़ा मेहनत और प्रयास करना पड़ा ,

फिर दोनों और आगे गये अब रामानंद ने अपने बेटे को एक आम के पेड़ को उखाड़ने बोला बेटे ने उस पेड़ को उखाड़ने के लिए बहुत ही प्रयास किये परन्तु वह पेड़ को नहीं उखाड़ पाया फिर श्याम ने अपने पिता रामानंद को बोला इस पेड़ को उखाड़ना असंभव हैं।

तब रामानंद अपने बेटे श्याम को समझाते हुए बोला बेटा ठीक इसी तरह बुरी आदतों के साथ होता हैं हम जितने जल्दी बुरी आदतों को छोड़ देंगे, उतना ही अच्छा रहेगा। जब कोई भी चीज नई होती हैं तो उन्हें छोड़ना आसान होता है। लेकिन वह जैसे-जैसे पुरानी होती जाएंगी, उन्हें छोड़ पाना बहुत मुश्किल या नामुमकिन हो जाता हैं। बुरी आदतों के कारण जीवन में दुख बढ़ता है। तथा कई बार अपनो को भी खोना पढ़ जाता हैं।बेटा उनकी बात समझ गया और उसने मन ही मन आज से ही बुरी आदत छोड़ने का निश्चय किया.

Moral:

  • बुरी आदत यदि वक्त पर ना बदली जाए तो यह हमारे वक्त बदल देती है। …
  • बुरी आदत इंसान की सबसे बड़ी दुश्मन होती हैं
  • एक अच्छी आदत इंसान को सफलता की बुलंदियों तक पंहुचा देती हैं वही बुरी आदत इंसान का विनाश कर देती हैं
  • सफल इंसान में अच्छी आदते होती हैं वहीं असफल इंसान बुरी आदतों का शिकार हो जाता हैं
  • एक व्यक्ति की बुरी आदत उसके लिए सबसे बड़ा खतरा होता हैं

धन्यवाद!

मित्रो आज की हमारी स्टोरी “ बुरी आदत छोड़ने की सीख ”  कैसे लगी और आपने क्या सिखा हमें comment में जरूर बताये! यदि आपके पास भी ऐसी ही  Hindi Moral Stories हैं तो आप हमें Gmail में जरुर भेजे उसे आपके फोटो और नाम से साथ हमारे Website के द्वारा लोगो तक पहुचाएंगे|

Gmail Id:- shareknowledge98@gmail.com

और दोस्तों इस तरह के शॉर्ट रोचक स्टोरी पढ़ने के लिए हमारे Website:- www.thoughtsguruji.comके साथ जुड़े रहिए |इसे अपने अपनों को भी पढ़ाइए,बताइए और सुनाइए |

Leave a Reply

Your email address will not be published.